free tracking
Breaking News
Home / देश दुनिया / तो कौन करेगा भा’रत के रा’फेल का मुकाबला

तो कौन करेगा भा’रत के रा’फेल का मुकाबला

बुधवार के दिन भारतीय वायुसेना के लिये दुनिया का सबसे शक्तिशाली राफेल आ चूका है ! इसके आते ही भारतीय वायुसेना की ताकत कईं गुना ज्यादा हो चुकी है ! वायुसेन एके चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने विमानों का स्वागत अम्बाला एयरबेस पर किया ! जिसके लिए कड़ी सुरक्षा का प्रबंध किया गया था !

दुशमन पर कहर बनकर टूटने वाला राफेल भारत में ऐसे समय पर आया , जब मई महीने से भारत और चीन के बीच सीमा पर विवाद चल रहा है। इस बीच राफेल की पहली खेप की तैनाती अंबाला हुयी , जोकि चीन बॉर्डर से 300 किमी. की दूरी पर ही है। ऐसे में अगर जरूरत पड़ती है तो चंद मिनटों में ही राफेल को बॉर्डर पर पहुंचाया जा सकता है यानी अगर दुश्मन कोई गुस्ताखी करता है तो उसपर एक्शन करने के लिए पूरी तरह से तैयार है।

हर हिंदुस्तानी ये जानना चाहता है कि जिस राफेल लड़ाकू विमान को गेमचेंजर बताया जा रहा है, वो पाकिस्तान के चौथी पीढ़ी के फाइटर जेट एफ-16 और चीन के पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमान जे-20 से कितना ताक़तवर साबित होगा।

राफेल Vs F-16 Vs J-20

भारत का राफेल सिंगल सीटर और डबल इंजन वाला विमान है। वहीं, चीन का J-20 सिंगल सीटर और डबल इंजन वाला जेट है। जबकि पाकिस्तान का F-16 लड़ाकू विमान सिंगल इंजन वाला है, जो कि राफेल से कमतर है। अगर मल्टीरोल की बात करें, यानी अलग-अलग भूमिकाएं निभाने की बात हो तो इस मोर्चे पर राफेल मल्टीरोल वाला फाइटर जेट है। वहीं चीन का J-20 स्टील्थ फाइटर जेट है यानी राफेल से कमतर है और पाकिस्तान का F-16 विमान भी मल्टीरोल फाइटर जेट है।

राफेल निगरानी, गश्त और अटैक तीनों ही भूमिकाएं निभा सकता है। जबकि चीन का J-20 सिर्फ़ निगरानी और अटैक कर सकता है। यहां भी ये राफेल से एक कदम पीछे है। वहीं, पाकिस्तान का F-16 विमान गश्त और अटैक कर सकता है यानी ये भी राफेल से एक कदम पीछे है। राफेल की रेंज 3,700 किलोमीटर तक मार करने की है जबकि चीन के J-20 की मारक रेंज 2,700 किलोमीटर है। मारक क्षमता के मामले में भी चीन का जे-20 फाइटर जेट राफेल से पीछे है। वहीं पाकिस्तान के F-16 की मारक क्षमता 4,200 किलोमीटर तक है।

वज़न ले जाने की क्षमता: राफेल की क्षमता 24.5 टन की है, जबकि चीन का J-20 34 टन वज़न लेकर उड़ सकता है। वहीं, पाकिस्तान का F-16 विमान 21.7 टन लेकर ही उड़ सकता है। यहां भी पाकिस्तान का एफ-16 विमान राफेल से काफ़ी पीछे है।

स्पीड: राफेल की रफ्तार 2222 किलोमीटर प्रतिघंटा की है, जबकि चीन के J-20 फाइटर जेट की स्पीड 2,100 किलोमीटर प्रतिघंटा की है, जोकि राफेल से काफ़ी पीछे है। वहीं पाकिस्तान के F-16 विमान की रफ्तार 2,400 किलोमीटर प्रतिघंटा है, जो राफेल से थोड़ी ज़्यादा है।

वज़न: राफेल का वज़न करीब 10 टन है। वहीं, चीन का J-20 19 टन वज़नी है और पाकिस्तान के F-16 विमान का वज़न 9.2 टन है।

हमलावर क्षमता: राफेल की हमलावर क्षमता ये है कि इससे परमाणु हथियार और मिसाइलें फायर की जा सकती हैं। वहीं, चीन का J-20 लड़ाकू विमान भी परमाणु हथियार से हमला करने में सक्षम है जबकि पाकिस्तान का F-16 विमान मिसाइलों से ही हमले कर सकता है।

About payal

Leave a Reply

Your email address will not be published.