free tracking
Breaking News
Home / देश दुनिया / इतनी परेशानी का कारण है ये ….

इतनी परेशानी का कारण है ये ….

ची-न  के  राष्ट्रपति शी  जिनपिंग इन दिनों बहुत ही परेशान नज़र आ रहे है  और उनकी इस परेशानी का कारण जानने के लिए इस खबर को अंत तक पढ़े !

चीन ने तिब्बतियों के मन को बदलने के भरपूर प्रयास करे लेकिन उनके हाथ नाकामयाबी ही आई ! चीन की एक  परेशानी का कारण अलगवाद है ! और दूसरी भारत के साथ लगती सीमा के पास हुयी झडप के बाद सुरक्षा को लेकर भी चीन को चिंता सताने लगी है ! पांच साल बाद तिब्बत को लेकर एक बड़ी बैठक हुयी है ! जिसमे शी  जिनपिंग के द्वारा कही गयी हर एक बात में चिंता साफ़ झलक रही थी ! जून में भारत के साथ पूर्वी लद्दाख में हुयी मुठभेड़ के बाद ‘तिब्बत पालिसी बॉडी ‘ की मीटिंग में भरत के साथ लगती सीमा की सुरक्षा बढ़ाने पर चीन के राष्ट्रपति ने दबाब डाला !

शी जिनपिंग ने कहा कि सीमा की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता में होनी चाहिए। सरकारी न्यूज एजेंसी शिन्हुआ के मुताबिक, शी ने पार्टी, सरकार और सैन्य नेतृत्व को सीमा सुरक्षा को मजबूत करने और सुरक्षा सुनिश्चत करने को कहा। साथ ही भारत के साथ लगती सीमा वाले क्षेत्र में सुरक्षा, शांति और स्थिरता सुनिश्चित करने का आदेश दिया।

भारत-चीन के बीच सीमा का अधिकांश हिस्सा तिब्बत से ही जुड़ा हुआ है, जिस पर 1950 में चीन ने कब्जा जमा लिया था। इसी सीमा पर पूर्वी लद्दाख में जून में दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसमें 20 भारतीय जवान शहीद हो गए, लेकिन चीन ने अपने हताहत सैनिकों की संख्या का खुलासा अभी तक नहीं किया है। इसके बाद से दोनों देशों में कूटनीतिक और सैन्य स्तर पर कई दौर की बातचीत हुई है लेकिन समाधान नहीं हो सका है।

शी तिब्बत पर आयोजित सातवें केंद्रीय सेमिनार में बोल रहे थे जो शनिवार को बीजिंग में संपन्न हुआ। यह तिब्बत पॉलिसी पर देश का सबसे अहम मंच है जिसपर 2015 के बाद पहली बार चर्चा हुई है। शिन्हुआ की तरफ बाद में जारी एक रिपोर्ट में सीमा सुरक्षा पर शी के बयानों को शामिल नहीं किया गया। शीन ने लोगों को जागरूक करने का आदेश देते हुए कहा कि क्षेत्र में स्थिरता बनाए रखने के लिए अलगाववाद के खिलाफ अभेद्य किले का निर्माण करें। साथ ही तिब्बती बौद्ध धर्म का ‘सिनीकरण’ करने का आह्वान किया है।

सिनीकरण का अर्थ है गैर चीनी समुदायों को चीनी संस्कृति के अधीन लाना और इसके बाद समाजवाद की अवधारणा के साथ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की राजनीतिक व्यवस्था उस पर लागू करना। चीन सालों से यहां भारत में निर्वासित बौद्ध धर्म गुरु दलाई लामा के प्रभाव को कम करने की कोशिश कर रहा है। इस बीच अमेरिका ने भी तिब्बत के मुद्दे को जोर-शोर से उठाना शुरू कर दिया है।

यदि आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई हो तो लाईक, शेयर व् कमेन्ट जरुर करें !

About Lakshmi

Leave a Reply

Your email address will not be published.