free tracking
Breaking News
Home / राजनीती / वि’धानसभा चुनाव ख़त्म होते ही बढ़ा बीजेपी कार्यकर्तायो पर अ-त्याचार

वि’धानसभा चुनाव ख़त्म होते ही बढ़ा बीजेपी कार्यकर्तायो पर अ-त्याचार

पश्चिम बंगाल में जबसे ममता बेनर्जी सत्ता में आई है तभी से बीजेपी के कार्यकर्तायो को परेशानी का सामना करना पड़  रहा है ! ऐसा बताया जा रहा है कि बंगाल में कांग्रेस ने , विधान सभा के चुनाव जितने के बाद, उन लोगो की लिस्ट बनायी है जिन्होंने बीजेपी को वोट दी थी और इस लिस्ट में मौजूद लोगो का सामाजिक बहिष्कार करने का फैंसला लिया है ! चलिए जानते है पूरा मामला क्या है !

अभी हाल में ही 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव संपन्न हुए हैं। जिसमें असम, पश्चिम  बंगाल, पुडुचेरी, तमिलनाडु और केरल शामिल थे। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस(TMC) सत्ता में तीसरी बार वापसी की है। आपको बता दें कि बंगाल में 2 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद से ही, बंगाल में BJP कार्यकर्ताओं के साथ गलत होने की ख़बरे आने लगी थी। अब खबर आ रही हैं, कि जिन्होंने बंगाल में बीजेपी को वोट दिया था। उनकी लिस्ट बनाकर सामाजिक बहिष्कार की तैयारी की जा रही है। आइए आपको पूरा मामला बताते हैं-

टीएमसी कर रही है तैयारी

पश्चिम बंगाल में जिस-जिसने चुनाव के दौरान बीजेपी के लिए काम किया था। उनकी लिस्ट जारी करके सामाजिक बहिष्कार का फरमान जारी हुआ है। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में चुनाव बाद भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं पर अत्या चार थमने का नाम नहीं ले रहा है। फिलहाल बंगाल के महीसादल इलाके में बीजेपी कार्यकर्ताओं की सूची जगह-जगह चिपकाई गई है। जिस पर लिखा गया है कि इन लोगों को किसी भी दुकानदार द्वारा कोई भी सामान नहीं बेचा जाना चाहिए। इनका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा

भाजपा नेताओं ने उठाए सवाल

आपको बता दें कि उक्त मसले पर बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर सवाल खड़ा करना शुरू कर दिया है। आखिर क्यों राज्य में ऐसा हो रहा है। केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने इसकी प्रति को रिट्वीट करते हुए कहा है कि, “यह अचंभित करने वाला है सीएम ममता बनर्जी से अनुरोध है कि राज्य में रहने वाले सभी नागरिकों की सुरक्षा और उनके अधिकारों को सुनिश्चित रखने की पहल करें। आपकों बता दे इस तरह से किसी को भी उनके मौलिक अधिकार से दूर नहीं रखा जा सकता और ना ही सामाजिक बहिष्कार किया जाना चाहिए। बंगाल में इस पर रोक नहीं लगी तो इससे शर्मनाक और कुछ नहीं होगा।”

बीजेपी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी इसकी भ र्त्सना की है। संबित पात्रा ने लिखा है कि यह अस हिष्णुता नहीं बल्कि ताना शाही है। यह दुर्भाग्यजनक है कि आज ममता बनर्जी अव्यवस्था पर्याय बन चुकी हैं। राज्यसभा सांसद स्वपन दास गुप्ता ने भी इसकी आलो चना की है। उन्होंने कहा कि बंगाल की स्थानीय इकाई द्वारा बीजेपी कार्यकर्ताओं को ब्लै क लिस्ट करने की यह सूची नई नहीं है। धर्मनिरपेक्षता के नाम पर बंगाल में बीजेपी कार्यकर्ताओं को सभी अधिकारों से वंचित कर दिया गया है।

About payal

Leave a Reply

Your email address will not be published.