free tracking
Breaking News
Home / देश दुनिया / EMI पर मिलेगी छुट, तुरंत पढ़े ये खबर

EMI पर मिलेगी छुट, तुरंत पढ़े ये खबर

मार्च महीने में को’रो’ना संकट होने की वजह से लॉक डाउन किया गया था ! जिसके कारण लम्बे समय तक काम न करने से बहुत से लोगो को सैलरी सम्बन्धी दिक्कतों का सामना करना पडा !और बहुत सबसे ज्यादा दिक्कत तो बैंको से लिए गये लोन की इएमआई  देने के लिये हुती है ! इसलिए रिजर्व बैंक के निर्देश पर बैको ने महत्वपूर्ण निर्णय लिया था ! इस निर्णय के तहत व्यक्तिगत लोगो  और कम्पनियों को लोंन की किश्ते चुकाने के लिए छ: महीने का समय दिया गया था ! 31 अगस्त को इसकी अवधि समाप्त होगयी है !

कोविद -19 की वजह से मोरेटोरियम अवधि के दौरान ब्याज दर  पर छुट देने की दिशा निर्देश देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट पर सुनवाई की ! केंद्र की ओर से पेश सोलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कोर्ट में हलफनामा दर्ज कर बताया कि दो साल के लिए ऋण स्थगन बढ़ सकता है ! कुछ ही सेक्टरो को इसका लाभ मिल पायेगा ! अगर आपने लों की किश्त थीं महीने तक नही चुकाई थी तो आपके लोंन  की अवधि थीं महीने तक बढ़ जाएगी !इन तीन महीनो में लगने वाला ब्याज भी आपसे लिया जायेगा !   बैंको के नियम व् शर्ते अलग -अलग हो सकती है ! लेकिन इसमें दो विकल्प ग्राहकों को मिल सकते है !

1 ब्याज दर बकाया राशि में जोड़ी जा सकती है जिससे बाकि के महीनो की EMI बढ़ सकती है

2 लोंन  की अवधि बढ़ सकती है ! EMI में किसी प्रकार का बदलाव नही होगा ! जितनी ज्यादा लोन की अवधि होगी उतना ही बोझ ग्राहकों पर बना रहेगा !

आइए इसे उदाहरण से समझते हैं:
अगर ग्राहक ने 8.5 फीसदी ब्याज पर 20 लाख रुपये का होम लोन लिया है और उसने पहले ही 105 ईएमआई का भुगतान कर लिया है, तो बकाया मूल राशि 15,05,408 रुपये हुई, जो उसे 135 और ईएमआई में पूरी करनी है। अब अगर ग्राहक ने तीन महीने की एमआई में छूट का विकल्प लिया था, तो उसे इंटरस्ट कम्पोनेंट के तौर पर 32,217 रुपये देने होंगे। अगर वह अपनी पहले वाली ईएमआई की रकम (17,356 रुपये) को जारी रखना चाहता है, तो वह 140 महीनों में लोन पूरा कर सकेगा। यानी इससे उसकी लोन की अवधि पांच माह बढ़ जाती है।

क्या है लोन मोरेटोरियम?
आरबीआई द्वारा दी गई लोन मोरेटोरियम की सुविधा के तहत ग्राहकों को ईएमआई टालने का विकल्प मिला। यानी अगर आपने बैंक से किसी भी प्रकार का लोन लिया है, तो आरबीआई ने आपको अपनी जरूरत के अनुसार, छह माह तक के लिए लोन की ईएमआई का भुगतान नहीं करने का विकल्प दिया।

कब से शुरू हुआ था मोरेटोरियम?
केंद्रीय बैंक की ओर से ग्राहकों को छह महीने के लिए- मार्च, अप्रैल, मई, जून, जुलाई और अगस्त के लिए अपने लोन की ईएमआई टालने का विकल्प दिया गया।
इसे कितनी बार बढ़ाया गया?
कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर ग्राहकों की सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए आरबीआई ने पहले 1 मार्च 2020 से लेकर 31 मई 2020 तक सभी टर्म लोन के पेमेंट पर तीन महीने की मोहलत दी थी। बाद में इसे अतिरिक्त तीन महीने के लिए यानी अगस्त 2020 तक बढ़ाया गया।

मोरेटोरियम आगे नहीं बढ़ाने का क्या अर्थ है?
छह अगस्त 2020 को हुई एमपीसी बैठक में लोन की ईएमआई टालने की अवधि नहीं बढ़ाई गई। यानी 31 अगस्त के बाद मोरेटोरियम की अवधि खत्म हो जाएगी। जिन ग्राहकों ने इस सुविधा का लाभ उठाया था, उन्हें सितंबर से फिर से अपने होम लोन, व्हीकल लोन और पर्सनल लोन पर मार्च से पहले की तरह किस्त चुकानी होगी।

यदि आपको हमारी ये जानकारी पसंद आई हो तो लाईक, शेयर व् कमेन्ट जरुर करें !

About Lakshmi

Leave a Reply

Your email address will not be published.