free tracking
Breaking News
Home / स्वास्थ्य / नर्स ने 9 हजार लोगों को बनाया उल्लू, कोरोना वैक्सीन बता कर लगा दिया नमक के पानी का इंजेक्शन

नर्स ने 9 हजार लोगों को बनाया उल्लू, कोरोना वैक्सीन बता कर लगा दिया नमक के पानी का इंजेक्शन

दोस्तों आज हम एक ऐसा देश  कि बात करने जा रहे है दोस्तों यहा  गाड़ी चलने कि कोई इस्पिटी की कोई लिमिट नही है और अगर इस देश में अपने बच्चो का नाम भी रखना है तो ओ भी बहुत सोच समझ के रखना पड़ता है वरना नामो को भी इन वेलेट कर दिया जाता है दोस्तों आज हम जिस देश कि बात करने वाले है जी हा दोस्तों या देश हर सन्डे को लागडाउन रहता है इस देश में सबसे अधिक किताबे छपती है तो आज हम आप को कुछ ऐसा बताने वाले है कि जहा इतना सबकुछ होते हेय भी होते है गलत काम जो किसी कि जिदगी का सवाल है इस बात को जाने के लिए आप हम से जुड़े रहिय !

जर्मनी (Germany) के रेड क्रॉस अस्पताल (Red Cross Hospital) की एक नर्स द्वार हजारों लोगों की जिंदगी से खिलवाड़ करने का मामला सामने आया है. इस नर्स को कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) से नफरत थी. इस वजह से उसने करीब 8 हजार 6 सौ लोगों को वैक्सीन की जगह सलाइन सॉल्यूशन (Vaccine Solution) का इंजेक्शन लगा दिया. जैसे ही ये खबर सामने आई, अस्पताल से इंजेक्शन लेने वाले लोगों में हड़कंप मच गया. अब अस्पताल ने सभी लोगों से आग्रह किया है कि वो जल्द से जल्द फिर से कोरोना वैक्सीन आकर ले लें.

जानकारी के मुताबिक़, जर्मनी के रेड क्रॉस अस्पताल (Red Cross Hospital) की एक नर्स को शुरुआत से ही कोरोना वैक्सीन पर भरोसा नहीं था. उसने अपने फेसबुक पेज (Facebook Page) पर भी वैक्सीन के खिलाफ कई बातें लिखी. उसके पोस्ट पर लोगों की नजर तब पड़ी जब अचानक ये खबर उड़ी कि अस्पताल की एक नर्स ने लोगों को वैक्सीन की जगह नमकीन पानी का इंजेक्शन लगा दिया है. ऐसे में लोगों को दुबारा से वैक्सीन लेने को कहा गया है.

ऐसे हुआ अथॉरिटी को शक
मार्च और अप्रैल में कई लोगों को वैक्सीन लगाया गया था. इसमें ज्यादातर बुजुर्ग थे. जब वैक्सीन के बाद भी उन्हें कोरोना हो गया तो प्रशासन की नींद उडी. उसने जांच करवाया कि आखिर ऐसा कैसे हो रहा है? जब इसकी डिटेल जांच की गई तो पता चला कि नर्स ने इंजेक्शन को बदल दिया था. अभी तक नर्स की डिटेल सामने नहीं आई है. हालांकि, पुलिस ने अब मामले की जांच शुरू कर दी है.

ग्रामीण इलाकों में लगाई वैक्सीन
द गार्डियन (The Guardian) की रिपोर्ट के मुताबिक, ये नकली इंजेक्शन जर्मनी के ग्रामीण इलाकों में लोगों को लगाया गया है. इस खबर के बाद वहां की अथॉरिटी में हड़कंप मच गया. नर्स इंजेक्शन के आने के बाद उसे नमकीन पानी से बदल देती थी. इसके बाद इसी पानी को इंजेक्शन में भरकर लोगों को लगा दिया जाता था.

 

About Upasana Thakur

Leave a Reply

Your email address will not be published.