free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / भारत की ये बड़ी कम्पनियां बनाएगी मोबाइल

भारत की ये बड़ी कम्पनियां बनाएगी मोबाइल

पूरी दुनिया में को:रोना वा:यरस को फैलाने और सबकी अर्थ व्यवस्थता को खराब करने के के लिए ची:न बुरी तरह से बदनाम हो चूका है ! आज भी वा’यर’स से सं’क्रमि’त लोगो की संख्या में रोज वृद्धि होती जा रही ! दुनिया के तमाम देश ची:न से काफी नाराज़ है और उसे उसकी करनी का सबक सिखाना चाहते है ! अब दुनिया इसकी विस्तारवादी नीतियों को समझ चुकी  है  जिसकी बजह  से कई बड़ी कंपनियों  ने चीन से बा’यकाट कर लिया है ! लेकिन इसके बाबजूद भी ची”न अपनी गलती को मानने से नकारता है ! और कहता है कि वो खुद भी इस वायरस का शिकार बना बना हुआ है !

लेकिन दुनिया की तमाम बड़ी कम्पनियों ने चीन से अपना बिज़नस ख़त्म  कर दिया है और कही और अपना ठिकाना ढूंड रही है ताकि उनके प्रोडक्ट पर लिखे हुए मेड इन चाइना की वजह से लोग कंपनी और उनके प्रोडक्ट का बहिष्कार न करें. चीन से निकलने वाली कंपनियों के लिए भारत सरकार ने रेड कारपेट बिछा दिया. मोदी सरकार ने आत्मनिर्भर भारत और देश को मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने के लिए कई कदम उठाये. अब इन कदमों का फायदा मिलता भी दिख रहा है. मोदी सरकार के प्रॉडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम के तहत पूरी दुनिया की 22 कंपनियों ने आवेदन किया है. ये 22 कम्पनियाँ भारत में अपना मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाना चाहती है.

जिन 22 कंपनियों ने भारत में अपना मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने के लिए आव्दन किया है उनमे मोबाइल कंपनियों की बहुतायत है. केन्द्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ये कंपनियां अगले पांच सालों में 11.5 लाख करोड़ का मोबाइल फोन और कंपोनेंट तैयार करेंगी. इनमें से 7 लाख करोड़ का प्रॉडक्ट निर्यात किया जाएगा. उन्होंने कहा कि ये कंपनियां 3 लाख डायरेक्ट और करीब 9 लाख इनडायरेक्ट जॉब्स भी पैदा करेंगी.

मोदी सरकार ने प्रॉडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव स्कीम के लिए 41 हजार करोड़ का बजट रखा है. सरकार इस स्कीम के जरिये दुनिया भर की कंपनियों को भारत में मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगाने के लिए आमंत्रित कर रही है.  इस योजना के तहत प्रस्ताव जमा कराने वाली विदेशी कंपनियों में सैमसंग, फॉक्सकॉन होन हेई, राइजिंग स्टार, विस्ट्रॉन और पेगाट्रॉन शामिल हैं. ताइवान की कंपनी पेगाट्रॉन कॉन्ट्रैक्ट पर ऐपल आईफोन का प्रॉडक्शन करती हैं. इस योजना के लिए कई भारतीय कंपनियों ने भी आवेदन किया है. लावा, डिक्सन टेक्नोलॉजीज, माइक्रोमैक्ट तथा पैजट इलेक्ट्रॉनिक्स भी भारत सरकार की इस स्कीम का फायदा उठाना चाहती है. लावा ने तो अगले 5 सालों में भारत में 800 करोड़ निवेश करने का ऐलान भी कर दिया है.

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.