free tracking
Breaking News
Home / क्रिकेट / हरभजनसिंह ने क्रिकेट से लिया सन्यास,इस व्यक्ति के कारण लिया सन्यास

हरभजनसिंह ने क्रिकेट से लिया सन्यास,इस व्यक्ति के कारण लिया सन्यास

भारतीय क्रिकेट टीम के फेमस खिलाडी हरभजन सिंह दांये हाथ के ऑफ स्पिन गेंदबाज और बल्लेबाज है .हरभजन ने अपने खेल के दमदार प्रदर्शन से लाखो करोड़ो का दिल जीत लिया .हरभजन ने रिकी पोइटिंग को दस बार आउट करने का रिकॉर्ड बनाया है .हरभजन को  अर्जुन और पद्म श्री पुरस्कार से नवाज़ा गया है .लेकिन शुक्रवार को हरभजन सिंह के अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने की खबर सामने आई है . क्रिकेट से सन्यास लेने के बाद हरभजन क्या करेंगे और किस की वजह से  वो सन्यास ले रहे है जानने के लिए खबर को अंत तक पढ़े .

हरभजन सिंह ने साल 1998 में अपना डेब्यू किया था और अब 23 साल उन्होंने क्रिकेट को हमेशा के लिए अलविदा कहने का फैसला ले लिया.महज 17 साल की उम्र में हरभजन सिंह ने अपने क्रिकेट की शुरुआत की थी और आज वह 41 साल के हो चुके हैं. हरभजन सिंह ने साल 1998 में चेन्नई में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट मुकाबले के साथ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत की. इसके बाद उसी साल न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे डेब्यू किया.

साल 2006 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ उन्होंने अपना टी20 डेब्यू किया. इसके बाद से साल 2015 तक उन्होंने कुल 103 टेस्ट मैचों में 417 विकेट लिए जबकि दो शतकों के साथ 2235 रन भी बनाए. वहीं 236 मैचों में उन्होंने 269 विकेट लिए और 1237 रन बनाए. टी20 की बात करें तो यहां उनके नाम 28 मैचों में उनके नाम 25 विकेट दर्ज हैं. टी20 डेब्यू किया.अनिल कुंबले और आर अश्विन के बाद हरभजन सिंह भारत के लिए टेस्ट सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले तीसरे गेंदबाज हैं. आईपीएल में भी हरभजन सिंह चेनन्ई सुपर किंग्स, मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइट राइडर्स के लिए खेले हैं जिसमें उन्होंने कुल 150 विकेट लिए हैं.

हरभजन सिंह का करियर रहा है शानदार

हरभजन सिंह ने कहा कि पिछले कुछ समय से वह यह घोषणा करना चाहते थे लेकिन कर नहीं पाए. उन्होंने यूट्यूब चैनल पर खास वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने कहा, ‘मैं आज क्रिकेट के हर फॉर्मेट से संन्यास ले रहा हूं. मैं जहनी तौर पर तो काफी पहले ही रिटायरमेंट ले चुका था लेकिन आपके साथ इसे अब शेयर आ कर रहा हूं. वैसे भी मैं काफी समय से एक्टिव क्रिकेट नहीं खेल रहा था. मैं काफी पहले ऐसा करना चाहता था लेकिन कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ अपने कमिटमेंट के कारण मैं चाहता था कि इस साल उनके साथ ही रहूं. हर किसी की तरह मैं भी इंडिया जर्सी में टीम को अलविदा कहना चाहता था लेकिन तकदीर को शायद कुछ और मंजूर था. मैं जिस टीम के लिए भी खेला हूं मैंने हमेशा कोशिश की कि वह हमेशा टॉप पर रहे.’

हरभजन सिंह ने अपनी सफलता के लिए अपने गुरु को धन्यवाद कहा. अपने माता-पिता के अलावा अपनी बहनों को अपनी सबसे बड़ी ताकत बताया. उन्होंने साथ ही अपनी पत्नी गीता बसरा से भी वादा किया कि वह अब उनके अपने दोनों बच्चों के साथ ज्यादा से ज्यादा वक्त बिताएंगे. भारत के इस दिग्गज स्टार ने अपने करियर के साथ सभी साथी और विरोधी खिलाड़ियों को धन्यवाद कहा, साथ ही अंपायर ग्राउंड्स मैन का भी धन्यवाद दिया.

राजनीति में जाने की तेज है चर्चा

पिछले दिनों पंजाब के प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने हरभजन सिंह से मुलाकात की थी. उसी समय से चर्चा चल रही है कि हरभजन सिंह जल्द ही राजनीति से जु़ड़ सकते हैं. हालांकि तब दिग्गज खिलाड़ी ने इसे महज अफवाह करार दिया था और कहा था कि वह नवजोत सिंह सिद्धु को एक क्रिकेटर के तौर पर मिले थे. वहीं कुछ समय पहले यह खबर भी आई थी कि पंजाब का यह स्टार रिटायरमेंट के बाद किसी आईपीएल टीम के बतौर सपोर्ट स्टाफ जुड़ सकता है. हालांकि इसकी पुष्टि भी भी नही हुई है.

About Lakshmi

Leave a Reply

Your email address will not be published.