free tracking
Breaking News
Home / धार्मिक / शनिवार के दिन भूलकर भी न करें ये काम, शनिदेव होते हैं नाराज

शनिवार के दिन भूलकर भी न करें ये काम, शनिदेव होते हैं नाराज

शनिवार के कारक देवता शनि देव या शनि ग्रह हैं। शास्त्रों के अनुसार, इस दिन शनि देव या हनुमान जी की पूजा करने से आपकी कुण्डली का शनि दोष समाप्त हो जाता है। शनि देव को न्याय और कर्मफल का देवता माना जाता है। वो व्यक्ति को उसके कर्मों के अनुसार अच्छे कर्म का अच्छा फल तथा बुरे कार्मों का बुरा फल प्रदान करते हैं। परन्तु कई बार हम से अंजाने में कई ऐसे कार्य हो जाते हैं, जिनके कारण हमें बुरे फल भुगतने पड़ते हैं। आज हम आपको कुछ ऐसे कार्यों के बारे में बताएंगे, जिनसे शनि देव नाराज हो जाते हैं, कोशिश करें कि ऐसे कार्य न करें।

 

1. शनि देव को प्रसन्न करने के लिए शनिवार को सरसों का तेल का दान करना या उसका दिया जलाना लाभदायक होता है। परन्तु इस दिन सरसों का तेल खरीदकर घर में नहीं लाना चाहिए और न ही दुकान से खरीदना चाहिए। पहले से खरीद कर रखे हुए तेल का ही उपयोग करना चाहिए।

2. शनिवार को लोग सरसों के तेल के साथ काला तिल भी दान करते हैं, लेकिन ध्यान रखें कि तेल की ही तरह काला तिल भी शनिवार को नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा करने से शनि देव प्रसन्न होने के बजाए नाराज हो सकते हैं।

3. शनिवार को लोहा या लोहे से बने समान नहीं खरीदना चाहिए। इस दिन लोहे का दान करना उचित है, परन्तु खरीदना उचित नहीं माना जाता है।

4. शनिवार को जूते-चप्पल का दान करने से शनि के दोष दूर होते हैं, परन्तु ध्यान रखें कि इस दिन किसी व्यक्ति से जूते-चप्पल का उपहार न लें और न ही दें।

5. गरीब, कमजोर या वृद्ध का अपमान नहीं करना चाहिए, न ही उन्हें परेशान करना चाहिए। ऐसा करने वाले व्यक्ति से शनि देव कभी प्रसन्न नहीं होते हैं।

6. शनिवार के दिन उत्तर और पूर्व दिशा में यात्रा करने से बचना चाहिए, ये आपके जीवन में कष्ट का कारण बन सकती है।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.