free tracking
Breaking News
Home / जरा हटके / स्कूल के टीचर का ट्रांसफर हुआ तो गले लग कर बिलख-बिलख कर रोये बच्चे, बोले ‘हमें छोड़कर मत जाइए सर’,

स्कूल के टीचर का ट्रांसफर हुआ तो गले लग कर बिलख-बिलख कर रोये बच्चे, बोले ‘हमें छोड़कर मत जाइए सर’,

दोस्तों शिक्षक  विद्यार्थी के जीवन में वह व्यक्ति होता है जो अपने ज्ञान धैर्य प्यार और देख-भाल से उसके पूरे जीवन को एक मजबूत बनाता है ।विद्यार्थी के जीवन में शिक्षक का अधिक महत्व होता है एक छात्र का अपने माता-पिता से ज्यादा अपने शिक्षक से लगाव होता है शिक्षक ही छात्र को उसके आगे के भविष्य का रास्ता दिखाता है या यूं कहें कि वह ही छात्र के भविष्य को संवारने का काम करता है जब शिक्षक और छात्र के बीच का जो सम्बन्ध दोस्त की तरह का होता है जब वो एक-दूसरे को छोड़कर जाते हैं तो माहौल अपने आप गंभीर हो जाता है कुछ ऐसा ही नजारा चंदौली जिले के कंपोजिट स्कूल में देखने को मिला एक शिक्षक के लिए बच्चे कैसे रोये आगे जानने के लिए पोस्ट के अंत तक बने रहिये

दरअसल ये ममला उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले के एक सरकारी स्कूल का है शिवेंद्र सिंह बघेल कंपोजिट स्कूल में शिक्षक के पद पर तैनात थे करीब चार साल से वह इस स्कूल में पढ़ा रहे थे शिवेंद्र सिंह बघेल छात्रों की पढ़ाई-लिखाई को लेकर काफी सजग रहते थे वह छात्रों पर विशेष ध्यान देते यही कारण रहा कि उनका छात्रों से काफी लगाव हो गया चार साल का कार्यकाल पूरा होने के बाद उनका ट्रांसफर किसी दूसरे जिले में हो गया जब स्कूल के छात्रों को पता चला कि उनके प्रिय सर का ट्रांसफर किसी दूसरे जिले में हो गया है तो उस समय स्कूल का माहौल बहेद भावुक हो गया और वह बहुत उदास हो गए, और उन्होंने अपने सर के जाने से पहले फेयरवेल पार्टी दी उस पार्टी में इन भावनात्मक पलों को सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है

टीचर के विदाई समारोह में बच्चे बिलख-बिलख कर रोने लगे और गले लग गए. इस दौरान बच्चों को दिलासा देते समय टीचर भी खुद को रोने से रोक नहीं पाए इस दौरान छात्रों काफी भावुक हो गए और रोकर शिक्षक शिवेंद्र सिंह बघेल के गले लग गए. वहां मौजूद लोगों ने कहा कि यही उनकी कमाई थी जो बच्चे इतने भावुक हैं जाते-जाते भी भावुक होते हुए बच्चो से शिवेंद्र सिंह बघेल ने कहा कि मन से पढ़ना खूब तरक्की करना शिवेंद्र सिंह बघेल ने बताया कि जब मैं पहली बार इस विद्यालय में आया तो मन में एक दृढ़ संकल्प लेकर आया था कि बच्चों को अच्छी शिक्षा दूंगा इनको काबिल बनाऊंगा ताकि हायर एजुकेशन में इनको किसी तरह की दिक्कत न हो यही कारण रहा कि मैंने बच्चों को पढ़ाया और उनके साथ मस्ती भी की आज बच्चों ने जो प्यार दिया उसको कभी भूल नहीं पाऊंगा

About Lakshmi

Leave a Reply

Your email address will not be published.