free tracking
Breaking News
Home / ताजा खबरे / उद्धव के जाते ही महारास्ट्र में बढ़ी बुलेट ट्रेन की रफ्तार,इस दिन चलेगी बुलेट ट्रेन

उद्धव के जाते ही महारास्ट्र में बढ़ी बुलेट ट्रेन की रफ्तार,इस दिन चलेगी बुलेट ट्रेन


दोस्तो जैसा कि सभी को मालूम है रोजाना कितने ही लोग सफर करते है ऐसे में यात्रियों को स्टेशन पर बहुत सी समस्याओं को सामना करना पड़ता है। तो बता दे यात्रियों की इन समस्याओं का जल्दी ही समाधान हो जाएगा । खबर के मुताबिक जबसे महाराष्ट्र में सरकार बदली है ।तभी से बुलेट ट्रेन परियोजना का काम ने तेजी पकड़ ली है ।इस मामले से जुड़ी पूरी खबर जानने के लिए खबर को अंत तक जरूर पढ़े।

स्टेशन पर यात्रियों के लिए सुरक्षा प्रणाली, टिकटिंग, प्रतीक्षा क्षेत्र, बिजनेस+ क्लास लाउंज, नर्सरी, विश्राम कक्ष, धूम्रपान कक्ष, सूचना कियोस्क और आकस्मिक राहत, सार्वजनिक सूचना जैसी सुविधा होगी.महाराष्ट्र में सरकार बदलने के बाद केंद्र सरकार की अति महत्वाकांक्षी अहमदाबाद-मुंबई हाई स्पीड कॉरिडोर (बुलेट ट्रेन) परियोजना आगे बढ़नी शुरू हो गई है। इसके तहत मुंबई में बांद्रा कुर्ला कॉम्पलेक्स (बीकेसी) भूमिगत हाई स्पीड रेलवे स्टेशन बनाने के लिए निविदा जारी की गई हैं।राष्ट्रीय हाई स्पीड रेल निगम लिमिटेड (एनएचएसआरसीएल) का दावा है कि पालघर जिले में भूमि अधिग्रहण का मामला जल्द ही सुलझा लिया जाएगा।

एनएचएसआरसीएल की प्रवक्ता सुषमा गौड़ ने बताया कि परियोजना के सी-1 पैकेज के तहत मुंबई (महाराष्ट्र) में बांद्रा कुर्ला कॉम्प्लेक्स हाईस्पीड स्टेशन के डिजाइन और निर्माण के लिए निविदाएं आमंत्रित कीं गई। यह इस परियोजना का एकमात्र भूमिगत रेलवे स्टेशन है, जो जमीन से 24 मीटर गहराई पर होगा। तीन मंजिला रेलवे स्टेशन में 6 प्लेटफॉर्म होंगे और प्रत्येक प्लेटफॉर्म की लंबाई 16 कोच की बुलेट ट्रेन के ठहराव के मुताबिक होगी।

कई सुविधाओं से लैस होगा भूमिगत स्टेशन


सुषमा गौड ने बताया कि भूमिगत स्टेशन में प्राकृतिक प्रकाश के लिए एक अलग रोशनदान होगा। स्टेशन पर यात्रियों के लिए सुरक्षा प्रणाली, टिकटिंग, प्रतीक्षा क्षेत्र, बिजनेस क्लास लाउंज, नर्सरी, विश्राम कक्ष, धूम्रपान कक्ष, सूचना कियोस्क और आकस्मिक राहत, सार्वजनिक सूचना और घोषणा प्रणाली, सीसीटीवी निगरानी आदि सुविधाएं होंगी। मेट्रो, बस, ऑटो और टैक्सियों जैसे परिवहन के अन्य साधन भी एकीकृत रूप से उपलब्ध होंगे।आपको बता दें कि महाराष्ट्र में सरकार बदलते ही ठाणे में डिपो एवं स्टेशन के लिए भूमि पहले दी जा चुकी है। और मुंबई एवं ठाणे में वन एवं पर्यावरण स्वीकृति मिल भी चुकी है।

About Megha