free tracking
Breaking News
Home / राजनीती / इन सभी सरकारी कर्मचारियों की जा सकती है नौकरी

इन सभी सरकारी कर्मचारियों की जा सकती है नौकरी

पिछले साल 5 अगस्त के दिन  इस दिन, जम्मू और कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35-ए को हटा दिया गया था, और इस साल का 5 अगस्त का दिन भी भारत के इतिहास में सुनहरे अक्षरों में दर्ज किया जायेगा। 5 अगस्त  2019  जिसे भारतीय संविधान में एक काले धब्बे के रूप में चिह्नित किया गया था। इस दिन के बाद, कश्मीर में एक नया सूर्योदय हुआ और अब कश्मीर विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है और आ-तंक से त्रस्त यह राज्य अब आ-तंक मुक्त है।

लेकिन कश्मीर में अभी भी कुछ ऐसे समर्थन हैं जो भारत के लोगों के टैक्स के पैसे पर पनपते हैं और खुद भारत के खिलाफ जहर उगलते हैं। लेकिन अब केंद्र सरकार ने इन सपनों के मज़ाक को कुचलने की तैयारी कर ली है, जो भारत के खाते हैं, लेकिन सीमा पार पाकिस्तान के गुण गाते हैं और देश वि-रोधी गतिविधियों में शामिल होकर भारत वि-रोधी लोगों की मदद करते हैं।

सरकार ने जम्मू और कश्मीर में राष्ट्र वि-रोधी गतिविधियों में शामिल सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए 6 सदस्यीय समिति का गठन किया है। यह समिति गुरुवार 30 जुलाई 2020 को बनाई गई है। यह समिति संविधान के अनुच्छेद 311 (2) (सी) के तहत मामलों की जांच और सिफारिश करेगी, जिसके आधार पर ऐसे देश के ग-द्दारों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, इस समिति का गठन राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल कर्मचारियों को खोजने और उन्हें नौकरी से निकालने के लिए किया गया है। इस पैनल की अध्यक्षता मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रह्मण्यम करेंगे। साथ ही, गृह सचिव और डीजीपी के अलावा अन्य सदस्य भी पैनल में शामिल होंगे। समिति उन सभी मामलों की जांच करेगी जिनका उल्लेख गृह विभाग और पुलिस द्वारा किया गया है। बताया जा रहा है कि ऐसे कर्मचारियों के खिलाफ भारतीय संविधान की धारा 311 के तहत कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा, उन सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की जा सकती है जो वर्तमान में हिरासत में हैं।

आपको बता दें, सोशल मीडिया पर फर्जी अकाउंट बनाकर भी ये सरकारी कर्मचारी देश विरोधी गतिविधियों को अंजाम देते हैं। वे कश्मी-रियों को भ-ड़काते हैं। वे उन्हें झूठी खबरों के जरिए बर-गलाते हैं। और फर्जी तस्वीरें साझा करके, वे पाकिस्तानी प्रचार को हवा देते हैं। ऐसे सरकारी कर्मचारी भी इस प्रावधान के दायरे में आएंगे। प्राप्त जानकारी के अनुसार, अगर जम्मू-कश्मीर पुलिस केंद्र शासित प्रदेश की सुरक्षा को खतरे में डालने वाले कर्मचारियों के खिलाफ आरोपों को दबाती है, तो केवल सामान्य प्रशासन विभाग से जांच की सिफारिश की जाएगी। दरअसल, पुलिस की जांच रिपोर्ट और संपार्श्विक साक्ष्यों के आधार पर आप अपना केस वापस ले सकते हैं। यदि ऐसा होता है, तो किसी भी जांच की आवश्यकता नहीं होगी। विभाग इसके बाद ही निलंबन या बर्खास्तगी का आदेश जारी करेगा।

आपको बता दें कि राज्य में पुलिस की निष्क्रियता और प्रशासनिक लापरवाही को लेकर केंद्र सरकार को पहले ही कई शिकायतें मिल चुकी हैं। लेकिन राजनीतिक दबाव के कारण, इन कर्मचारियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई, सुरक्षा के खतरे की आशंका या स-शस्त्र बलों के खिलाफ लोगों को उकसाने की कार्रवाई। लेकिन अब मौसम और सत्ता दोनों बदल गए हैं। सख्त रुख अपनाते हुए अमित शाह ने ऐसे कर्मचारियों को सबक सिखाने की ठानी है और इसके लिए एक कमेटी के गठन का आदेश दिया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, 5 सरकारी कर्मचारियों को अगस्त 1990 में उनकी सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था, क्योंकि उन्हें राष्ट्र-वि-रोधी गतिविधियों में शामिल होना था, लेकिन राजनीतिक हस्तक्षेप और अन्य कर्मचारियों द्वारा 73-दिवसीय हड़ताल के बाद बहाल किया गया था। इसके अलावा, 1993 में एक पुलिस वि-द्रोह के बाद लगभग 130 पुलिसकर्मियों को निकाल दिया गया था, लेकिन फिर उन्हें अग्नि-शमन विभाग और अन्य सेवाओं में रखा गया था। लेकिन अब इन कर्मचारियों की नब्ज नहीं पिघली जा रही है, क्योंकि आदेश सख्त है और उसके बाद ऐसे देश वि-रोधी कर्मचारियों की नौकरी चली जाना निश्चित है। यह कार्रवाई भी आवश्यक है, ताकि ऐसे देश के ग-द्दारों को एक मजबूत संदेश मिले कि जो भी देश के खिलाफ आवाज उठाएगा, वह अब ठीक नहीं होगा।

About admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.