free tracking
Breaking News
Home / देश दुनिया / राफेल के भारत पहुँचते ही घबरा कर ये बात कहने लगा ये देश

राफेल के भारत पहुँचते ही घबरा कर ये बात कहने लगा ये देश

बीते बुधवार के दिन भारत में रा’फेल के पहुँचते ही देश में खुसी की लहर छा गयी ! इनके आते ही भारतीय वा’युसेना की ताकत कई गुना बढ़ गयी है क्युकी ये रा’फेल दुनिया के सबसे श’क्तिशाली ल’ड़ाकू वि’मानों में आते है ! ये लड़ाकू  वि’मान दूर से अपने  टारगेट को पहचान लेता है और कुछ सेकंड्स में ही अपने टारगेट का खात्मा करने सक्षम है ! ये ल’ड़ाकू विमान कई आत्याधुनिक मिसयिलो से लैस है ! फ्रां’स से पहली खेप में 5 फा’ईटर जेट राफेल आये है  जिन्हें अभी राफेल को अ’म्बाला के एयरबेस में रखा गया है! बता दे कि अम्बाला से लद्दाख सीमा की 300 किलो मीटर है ! ताकी जरुरत पड़ने पर उन्हें आसानी से समय से पहले सीमा पर पहुँचाया जा सके !  लेकिन जबसे 5 लड़ाकू विमान भारत के अम्बाला एयरबेस में पहुंचे है तबसे ची’न और पा’किस्ता’न बुरी तरह से दर चुके है !

पाकिस्तान विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता आइशा फ़ारूक़ी ने साप्ताहिक मीडिया ब्रीफ़िंग के दौरान कहा, “भारतीय वायुसेना के ज़रिए हाल ही में राफेल  विमान हासिल किए जाने की ख़बरें हमने देखी हैं. भारत के कुछ पूर्व अधिकारियों और कई अंतरराष्ट्रीय मैगज़ीन के अनुसार राफेल विमानों में दोहरी क्षमता होती है, उनका इस्तेमाल परमाणु हथियारों के लिए भी किया जा सकता है.”

बुधवार को पाँच राफेल विमान फ़्रांस से भारत पहुँचे थे. भारत ने फ़्रांस से कुल 36 राफेल विमान ख़रीदे हैं और ये पहली खेप थी.भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल विमानों को भारतीय वायुसेना में शामिल किए जाने को, ‘हमारे सैन्य इतिहास में एक नए अध्याय की शुरुआत’ बताया था. भारत-चीन एलएसी पर लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के ठीक छह हफ़्तों बाद भारत में ये राफेल विमान पहुँचे हैं.आइशा फ़ारूक़ी ने कहा कि भारत अपने परमाणु हथियारों के ज़ख़ीरे को बढ़ा भी रहा है और उसे आधुनिक भी बना रहा है.

 

भारत ने हिंद महासागर को परमाणु हथियारबंद कर दिया है और अपने मिसाइल सिस्टम के ज़रिए उसने अपने हथियारों की तैयारी को और बढ़ा दिया है. पाकिस्तानी प्रवक्ता ने कहा कि भारत अपनी जायज़ सुरक्षा ज़रूरतों से ज़्यादा सैन्य क्षमता बढ़ा रहा है और पश्चिमी देश अपने संकुचित व्यवसायिक फ़ायदे के कारण भारत को आधुनिक तकनीक और हथियार मुहैया कराने में उसकी मदद कर रहे हैं.

उन्होंने कहा कि इस तरह के हथियारों की लेन-देन विवादित और संघर्ष वाले क्षेत्रों में हथियारों की होड़ को रोकने के लिए बनाए गए विभिन्न निर्यात नियंत्रण नियमों का भी उल्लंघन करते हैं. उन्होंने कहा कि इस तरह के आधुनिक उपकरण और हथियार की लेन-देन अंतरराष्ट्रीय आपूर्तिकर्ता देशों की हथियारों की जमाख़ोरी को रोकने के प्रति प्रतिबद्धता पर भी सवाल उठाते हैं.पाकिस्तान ने कहा है कि रफ़ाल लड़ाकू विमान ख़रीदे जाने समेत भारत के ज़रिए हथियार जमा किए जाने की वो अनदेखी नहीं कर सकता है.

About payal

Leave a Reply

Your email address will not be published.